Motivation456 Malyalam Marathi Punjabi Tamil Hindi English Diwali Greeting-wishes-quotes-Message

हैप्पी मोटीवेशनल क्वाट्स

ख़ुशी तब मिलेगी जब आप जो सोचते हैं, जो कहते हैं और जो करते हैं, सामंजस्य में हों.

प्रसन्नता कोई पहले से निर्मित वास्तु नहीं है . वो आपके कर्मो से आती है

लोग केहते हैं कि पैसा खुशियों की चाभी नहीं है,पर मैंने हमेशा पाया है कि यदि आपके पास पैसा है तो आप एक चाभी बनवा सकते हैं.

पैसा आपके लिए खुशियाँ नहीं खरीद सकता लेकिन वो दुःख को कुछ सुखद रूप में अनुभव करा सकता है.

पैसे ने कभी किसी को ख़ुशी नहीं दी है , और न देगा , उसके स्वभाव में ऐसा कुछ नहीं है जिससे ख़ुशी उत्पन्न हो . ये जितना ज्यादा जिसके पास होता है वो उतना ही और इसे चाहता है .

लेकिन !! ख़ुशी को दूसरों की नज़रों से देखना कितना कड़वा है .

कुछ लोग जहाँ जाते हैं वहां खुशियाँ लाते हैं , कुछ लोग जब जाते हैं तब खुशियाँ लाते हैं .

प्रसन्नता हम पर ही निर्भर करती है .

आपके जीवन की प्रसन्नता आपके विचारों की गुद्वात्ता पर निर्भर करती है .

ख़ुशी की तरह दौलत भी कभी प्रत्यक्ष रूप से नहीं मिलती . यह किसी उपयोगी सेवा के फलस्वरूप मिलती है .

किसी को अधिकार नहीं है कि वो बिना ख़ुशी पैदा किये उसका उपभोग करे

प्रसन्नता वो पुरस्कार है जो हमे हमारी समझ के अनुरूप सबसे सही जीवन जीने पे मिलता है .

श्वेत व्यक्ति की ख़ुशी ,अश्वेत व्यक्ति के दुःख से नहीं खरीदी जा सकती .

जो चाहा वो मिल जाना सफलता है . जो मिला उसको चाहना प्रसन्नता है

प्रसन्नता कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे आप भविष्य के लिए ताल दें ; ये कुछ ऐसा है जिसे आप वर्तमान के लिए डिज़ाइन करते हैं .

जब महत्त्वाकांक्षाएं ख़तम होती हैं , तब ख़ुशी शुरू होती है .

“प्रसन्नता” शब्द अपना मतलब खो देगा यदि उसे दुःख से संतुलित नहीं किया जाये

शादी के बाद ख़ुशी तो बस भाग्य का खेल है .

जो चाहा वो मिल जाना सफलता है . जो मिला उसको चाहना प्रसन्नता है . “जो चाहा वो मिल जाना सफलता है . जो मिला उसको चाहना प्रसन्नता है .”

सुख भी बहुत हैं परेशानियाँ भी बहुत हैं जिंदगी में लाभ हैं तो हानियाँ भी बहुत हैं क्या हुआ जो प्रभु ने थोड़े गम दे दिए उस की हम पर मेहरबानियाँ भी बहुत हैं !!

पैसा आपके लिए खुशियाँ नहीं खरीद सकता लेकिन वो दुःख को कुछ सुखद रूप में अनुभव करा सकता है.

याद रखिये ख़ुशी इस बात पर निर्भर नहीं करती कि आप कौन हैं या आपके पास क्या है; ये पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करती है कि आप क्या सोचते हैं

मुस्कान और मदद ये दो ऐसे इत्र हैं जिन्हें जितना अधिक आप दूसरों पर छिड़केंगे, उतने ही सुगन्धित आप स्वंय होंगे।

कुछ लोग जहाँ जाते हैं वहां खुशियाँ लाते हैं, कुछ लोग जब जाते हैं तब खुशियाँ लाते हैं .

प्रसन्नता हम पर ही निर्भर करती है .

कभी भी उनसे मित्रता मत कीजिये जो आपसे कम या ज्यादा प्रतिष्ठा के हों. ऐसी मित्रता कभी आपको ख़ुशी नहीं देगी.

आपके जीवन की प्रसन्नता आपके विचारों की गुद्वात्ता पर निर्भर करती है

ख़ुशी की तरह दौलत भी कभी प्रत्यक्ष रूप से नहीं मिलती. यह किसी उपयोगी सेवा के फलस्वरूप मिलती है .

यदि आपकी ख़ुशी इस बात पर निर्भर करती है कि कोई और क्या करता है तो मेरा मानना है की आपको कोई समस्या है .

किसी को अधिकार नहीं है कि वो बिना ख़ुशी पैदा किये उसका उपभोग करे .

प्रसन्नता वो पुरस्कार है जो हमे हमारी समझ के अनुरूप सबसे सही जीवन जीने पे मिलता है

जब आप किसी काम की शुरुआत करें, तो असफलता से मत डरें को ना और उस काम छोड़ें. जो लोग इमानदारी से काम करते हैं वो सबसे प्रसन्न होते हैं.

दुःख में कोई किसी का साथ नहीं देता, तो कोशिश करिये कि हमेशा खुश रहा जाये

हम तो खुशियाँ उधार देने का कारोबार करते हैं,साहब कोई वक़्त पे लौटाता नहीं है इसलिए घाटे में हैं

हर रात के बाद सवेरा आता है! खुशियाँ जरुर आएँगी ! धैर्य रखिये

पता है मैं हमेशा खुश क्यों रहता हूँ ? क्योंकि, मैं खुद के सिवा किसी से कोई उम्मीद नहीं रखता।

“हमेशा हँसते रहिये, जितनी भी परेशानी हो मुस्कुराते रहिये। एक दिन जिंदगी भी आपको परेशान करते-करते थक जाएगी।

हर किसी को खुश करना शायद हमारे बस में ना हो, लेकिन किसी को हमारी वजह से दुःख ना पहुँचे, यह तो हमारे बस में है।

सुख भी बहुत हैं परेशानियाँ भी बहुत हैं जिंदगी में लाभ हैं तो हानियाँ भी बहुत हैं क्या हुआ जो प्रभु ने थोड़े गम दे दिए उस की हम पर मेहरबानियाँ भी बहुत हैं !!

जैसे एक सचेत व्यापारी अपने सारे पैसे एक जगह नहीं निवेश करता , उसी तरह बुद्धिमत्ता भी शायद हमें ये चेतावनी देती है कि हम अपनी सारी खुशियाँ किसी एक जगह से पाने की अपेक्षा न करें .

याद रखिये ख़ुशी इस बात पर निर्भर नहीं करती कि आप कौन हैं या आपके पास क्या है ; ये पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करती है कि आप क्या सोचते हैं .

वह जो अपने परिवार से अत्यधिक जुड़ा हुआ है , उसे भय और चिंता का सामना करना पड़ता है,क्योंकि सभी दुखों कि जड़ लगाव है. इसलिए खुश रहने कि लिए लगाव छोड़ देना चाहिए.

लोग केहते हैं कि पैसा खुशियों की चाभी नहीं है,पर मैंने हमेशा पाया है कि यदि आपके पास पैसा है तो आप एक चाभी बनवा सकते हैं.

खुशी उनको नहीं मिलती जो अपनी शर्तो पे जिंदगी जिया करते हैं। खुशी उनको मिलती है, जो दूसरों की खुशी के लिए अपनी शर्ते बदल लिया करते हैं।

जरूरी नहीं कि मिठाई खिलाकर ही दूसरों का मुंह मीठा करें, आप मीठा बोलकर भी लोगों को खुशियॉं दे सकते हैं!

सारा जहां उसी का है, जो मुस्कुराना जानता है रोशनी भी उसी की है जो शमा जलाना जानता है हर जगह मंदिर मस्जिद गुरूद्वारे है। लेकीन इश्वर तो उसीका है जो “सर” झुकाना जानता है…!!

हम तो खुशियाँ उधार देने का कारोबार करते हैं,साहब कोई वक़्त पे लौटाता नहीं है इसलिए घाटे में हैं…

मैं निकला सुख की तलाश में रास्तेh में खड़े दुखों ने कहा… हमें साथ लिए बिना… सुखों का पता नहीं मिलता जनाब…

सबको सुखी रखना बेशक हमारे हाथ में नहीं है, पर किसी को दुखी ना करें ये जरूर हमारे हाथ में है!!

जिंदगी को खुश रहकर जियो, क्यों!कि रोज शाम सिर्फ सूरज ही नहीं ढलता… आपकी अनमोल जिंदगी भी ढलती है!!

छोटी छोटी खुशियां ही तो जीने का सहारा बनती है ।। ख्वाहिशों का क्या वो तो पल-पल बदलती है।।

उदासियों की वजह तो बहुत है जिंदगी में, पर बेवजह खुश रहने का मजा ही कुछ और है…







    For any query mail us:

    javaonexperiance@gmail.com

    Find and join us on below Social platforms:
    facebook instagram pinterest twitter reddit tumbler mix myheritage deviantart badoo meetme youtube

    Find and join us on below Mobile platforms: With name of : motivation456
    4fun hello likee mall91 Noizz roposo sharchat tiktok VEGOVIDEO vemate YOYO vidvideo weclip welike

    ©Copyright 2019
    Terms and conditions
    Privacy Policy